ओलम्पिक जैसा ही है एशियन गेम्सः पुलेला गोपीचंद

0
232
Badminton news, Pullela Gopichand,

बैडमिंटन में एशियाई खिलाड़ी दुनिया में सबसे मजबूत हैं, इसलिए यह लगभग ओलम्पिक जैसा ही है। यहां असली परीक्षा होगी। यह कहना है भारतीय टीम के बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद का। गोपीचंद ने आगे कहा कि हालात कठिन और टूर्नामेंट चुनौतीपूर्ण होने जा रहे हैं। टीमें वास्तव में इस टूर्नामेंट के लिए तैयार होती हैं और इसे दिल और प्रतिष्ठा के साथ खेलती हैं, इसलिए भी यह एक कठिन टूर्नामेंट है। फिर भी हम एक मजबूत टीम हैं और मुझे उम्मीद है कि हम अधिक मेडल के साथ वापस आ सकते हैं। 

उन्होंने कहा कि पिछले दो ओलम्पिक की तैयारी के लिए हमें पास पर्याप्त समय मिला। दोनों ओलम्पिक से तीन से चार महीने पहले हमारे पास चीजों को तैयार करने और योजना बनाने के लिए पर्याप्त समय था। एशियन गेम्स से ठीक पहले वर्ल्ड चैंपियनशिप और कुछ सुपर सीरीज हुए, जिसकी वजह से तैयारियों के लिए उतना समय नहीं मिला। यह इसलिए भी कठिन टूर्नामेंट है, क्योंकि सप्ताहभर पहले ही वर्ल्ड चैंपियनशिप खेली गई है। 
 

LEAVE A REPLY